क्वांटम संख्या क्या है? जानिए A-Z एकदम सरल भा

हेलो दोस्तों आज हम लोग जानेगे कि क्वांटम संख्या क्या है? यह कितने प्रकार का होता है और इनके परिभाषा भी स्टेप बाई स्टेप आसान भाषा में जानेंगे तो चलिए शुरू करते है

क्वांटम संख्या क्या है? (What is Quantum Number in Hindi)

क्वांटम संख्या (Quantum Number) –

किसी भी परमाणु में इलेक्ट्रान के ऊर्जा तथा स्थिति के विषय में जानकारी जिन संख्याओं से प्राप्त होती है उसे ही क्वांटम संख्या कहते है चार प्रकार के क्वांटम संख्याये पूर्णतः इलेक्ट्रान का परिचय देते है

क्वांटम संख्या
क्वांटम संख्या

क्वांटम संख्या के प्रकार (Types of Quantum Number in Hindi) –

क्वांटम संख्या चार प्रकार के होते है

  1. मुख्य क्वांटम संख्या
  2. द्विगंशी क्वांटम संख्या
  3. चुम्बकीय क्वांटम संख्या
  4. चक्रण क्वांटम संख्या

मुख्य क्वांटम संख्या (Principal Quantum Number in Hindi) –

  • मुख्य क्वांटम संख्या को “n” से निरुपित करते है
  • मुख्य क्वांटम संख्या परमाणु का आकार निर्धारित करता है
  • इलेक्ट्रान की परमाणु नाभिक दूरी को व्यक्त करता है अर्थात् परमाणु त्रिज्या बतलाता है
  • इलेक्ट्रान के वेग को निर्धारित करता है
  • मुख्य क्वांटम संख्या इलेक्ट्रान की ऊर्जा को बतलाता है
  • मुख्य क्वांटम की उत्पत्ति बोहर मॉडल में हुई थी
  • यह कक्षाओ में इलेक्ट्रानो के कोणीय संवेग को निर्धारित करता है
  • मुख्य क्वांटम संख्या तरंग के आयाम को बतलाता है
  • मुख्य क्वांटम संख्या का मान 1 से लेकर अनंत होता है
  • बोहर मॉडल में स्पेक्ट्रम की उत्पत्ति हुई थी
जरूर पढ़ें -  यौगिक किसे कहते हैं, पूरी जानकारी एकदम सरल भाषा में

(2) द्विगंशी क्वांटम संख्या (Azimuthal Quantum Number in Hindi) –

  • द्विगंशी क्वांटम संख्या को “ l ” से निरुपित करते है
  • द्विगंशी क्वांटम संख्या उपकोशो के विषय में जानकारी प्रदान करता है
  • l = 0 = s subshell
  • l = 1 = p subshell
  • l = 2 = d subshell
  • l = 3 = f subshell
  • द्विगंशी क्वांटम संख्या उपकोशो में कोणीय संवेग को व्यक्त करता है
  • द्विगंशी क्वांटम संख्या इलेक्ट्रान के तरंग की आवृति को व्यक्त करता है
  • द्विगंशी क्वांटम संख्या का मान 0 से लेकर (n-1) तक होता है
  • Example – n = 4, l = 0, 1, 2, 3

चुम्बकीय क्वांटम संख्या (Magnetic Qunatum Number in Hindi) –

  • चुम्बकीय क्वांटम संख्या को m से निरुपित करते है
  • चुम्बकीय क्वांटम संख्या को कक्षको की संख्या कहते है यह कक्षको की संख्या को निरुपित करता है
  • चुम्बकीय क्वांटम संख्या इलेक्ट्रानो का त्रिविमीय क्षेत्र में अथवा अन्तराकाश में इलेक्ट्रानो के विन्यास को निरुपित करता है
  • चुम्बकीय क्वांटम संख्या का मान -l से लेकर +l तक होता है
  • Example –
  • l = 1 = p – subshell
  • m = -1, 0 +1

चक्रण क्वांटम संख्या (Spin Quantum Number in Hindi) –

  • इसे s से निरुपित करते है
  • यह इलेक्ट्रान के चक्रण की दिशा को प्रदर्शित करता है
  • यदि इलेक्ट्रान दक्षिणावर्त चक्रण करता है तो s का +1/2 होगा यदि इलेक्ट्रान का चक्रण वामावर्त है तो -1/2 होगा

S = n/ 2

n = Number of unpair electrons (अयुग्मित इलेक्ट्रानो की संख्या)

n = 3

s = n/ 2

s = 3/ 2

यदि किसी स्पीशीज के पास अयुग्मित इलेक्ट्रान है तो उसमे चुम्बकीय आघूर्ण पाया जाता है

µ = म्यू = Magnetic moment = चुम्बकीय आघूर्ण

µ = under rood n(n+2)

µ = (4s(s+1)

क्वांटम संख्याओ का क्रम n, l, m तथा s होता है इसका अर्थ है कि मुख्य क्वांटम संख्या शेष तीनो क्वांटम संख्याओ के मान के निर्धारित करता है जब की शेष तीनो क्वांटम संख्याये n के मान निर्धारित नही कर सकते है

जरूर पढ़ें -  फैराडे का नियम, प्रथम नियम, द्वितीय नियम, आसान भाषा में

n = n

l = n

m = n square

s = 2n square

n = 2

l = 0, 1

m = n square = 4

s = 8

l के मान के लिए –

Ex –   l = l         l = 1

       m = (2l+1)    m = 3

       s = 2 (2l+1)   s = 6

पावली का अपवर्जन नियम (Pauli’s Exclusion Principle) –

पावली के अपवर्जन नियम के अनुसार किसी भी परमाणु में किन्ही दो इलेक्ट्रानो के लिए चारो क्वांटम संख्या का मान एक समान नही हो सकता यदि किन्ही दो इलेक्ट्रानो के लिए ‘n’ का मान ‘l’ का मान m का मान एक समान है तो s का मान भिन्न – भिन्न होगा अर्थात पहले इलेक्ट्रान के लिए +1/2 तथा दूसरे इलेक्ट्रान के लिए -1/2  होता है

Ex – पावली के अपवर्जन के नियमानुसार चतुर्थ मुख्य ऊर्जा स्तर में कुल 32 इलेक्ट्रान होते है मुख्य ऊर्जा स्तर में इलेक्ट्रानो की संख्या 2n2 होती है

हुंड का नियम (Hund’s Principle) –

किसी ऑर्बिटल कक्षक में इलेक्ट्रानो का वितरण हुंड के नियमानुसार किया जाता है इस नियम के अनुसार किसी भी उपकोश के प्रत्येक ऑर्बिटल कक्षक में इलेक्ट्रानो को युग्मित तब तक नही किया जा सकता जब तक प्रत्येक ऑर्बिटल कक्षक को अयुग्मित न कर दिया जाय यही हुन्ड का नियम है

दोस्तों आशा करता हूँ कि आपको क्वांटम संख्या के बारे में दी गई जानकारी पसंद आयी होगी दोस्तों अगर यह जानकारी आपको पसंद आयी है तो प्लीज इसे अधिक से अधिक अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये जिससे उन्हें भी इसका लाभ मिल सके

NEET या दूसरे बोर्ड Exams के लिए कम्पलीट नोट्स बुक –

NEET Teachers के द्वारा एकदम सरल भाषा में लिखी गई नोट्स बुक 3 in 1, यानि कि एक ही किताब में जीव विज्ञान, रसायन विज्ञान और भौतिक विज्ञान की कम्पलीट कोर्स। यदि आपको इसकी जरूरत है तो नीचे दिए गये बुक इमेज पर क्लिक कीजिये और इसके बारे में और भी जानिए।

Thank You very much

Leave a Comment

error: Content is protected !!