पर्यावरण प्रदूषण पर निबंध What is environmental Pollution in Hindi Full जानकारी easy भाषा में 2022

हेलो दोस्तों स्वागत है आपका हमारे इस ब्लॉग में, दोस्तों क्या आप पर्यावरण प्रदूषण पर निबंध के बारे में जानना चाहते है यदि हाँ तो यह पोस्ट आप के लिए ही है क्योकि आज हम पर्यावरण प्रदूषण पर निबंध के बारे में अच्छी तरह से जानेंगे लेकिन आपको इसे अच्छी तरह से समझने के लिए पूरे आर्टिकल को स्टेप बाई स्टेप पढ़ना होगा तो चलिए शुरू करते है

Advertisement

पर्यावरण प्रदूषण क्या है?

दोस्तों पर्यावरण प्रदूषण क्या है इसे जानने से पहले हमें प्रदूषक (Pollutants) के बारे में जानना जरूरी है तो चलिए पहले प्रदूषक के बारे में जान लेते है

प्रदूषक क्या होता है? (What are Pollutants in Hindi?)

वह पदार्थ (Agents) जो पर्यावरण को प्रदूषित करता है उसे प्रदूषक (Pollutants) कहते है

अब आप सोच रहे होंगे कि प्रदूषक का उत्पादन कहा से होता है दोस्तों इसका ज्यादातर उत्पादन मानव क्रियाओं के द्वारा होता है

Advertisement

पर्यावरण प्रदूषण पर निबंध या पर्यावरण प्रदूषण क्या है?

पर्यावरण जीवों का परिवेश है। जिस वातावरण में जीव रहता है वह वायु, जल, भूमि आदि जैसे विभिन्न घटकों से बना होता है। जीवों को रहने के लिए पर्यावरण में एक अनुकूल संतुलन बनाने के लिए ये घटक निश्चित अनुपात में पाए जाते हैं।

किसी भी प्रकार का  आइछित और अवांछित इन घटकों के अनुपात में परिवर्तन को प्रदूषण कहा जा सकता है। यह मुद्दा हर गुजरते साल के साथ बढ़ता ही जा रहा है। यह एक ऐसा मुद्दा है जो आर्थिक, शारीरिक और सामाजिक परेशानी पैदा करता है।

पर्यावरण की समस्या जो दिन-ब-दिन बिगड़ती जा रही है, उस पर ध्यान देने की आवश्यकता है ताकि मनुष्य और ग्रह पर इसके हानिकारक प्रभावों को समाप्त किया जा सके।

पर्यावरण प्रदूषण के कारण 

उद्योगों के उदय और रोजगार की तलाश में गांवों से शहरों की ओर लोगों के जाने के साथ, उचित आवास और अस्वच्छ रहने की स्थिति की समस्या में लगातार वृद्धि हुई है। इन कारणों ने प्रदूषण पैदा करने वाले कारकों को जन्म दिया है।

Advertisement
पर्यावरण प्रदूषण कितने प्रकार के होते है?

पर्यावरण प्रदूषण के प्रकार –      

पर्यावरण प्रदूषण मुख्यरूप से चार प्रकार के होते हैं, वायु, जल, मिट्टी और ध्वनि प्रदूषण। 

वायु प्रदूषण क्या है? (What is Air Pollution in Hindi?)

 वायु प्रदूषण आज की दुनिया में एक प्रमुख समस्या है। फैक्ट्री की चिमनियों और ऑटोमोबाइल (वाहनों) से निकलने वाला धुआं उस हवा को प्रदूषित करता है जिसमें हम सांस लेते हैं। इस धुएं से कार्बन डाइऑक्साइड, कार्बन मोनोऑक्साइड और सल्फर डाइऑक्साइड जैसी गैसें निकलती हैं जो हवा में मिल जाती हैं और मानव शरीर, वनस्पतियों और जीवों को बहुत नुकसान पहुंचाती हैं।

हमारे गांवों में घरेलू ईंधन के रूप में उपयोग किए जाने वाले सूखे-खेत के कचरे, सूखी घास, पत्तियों और कोयले से भी हानिकारक गैसें पैदा होती हैं। और हवा में सल्फर डाइऑक्साइड की अधिकता के कारण अम्लीय वर्षा होती है। जो बहुत ही हानिकारक होता है

वायु प्रदूषण (Air Pollution in Hindi) के प्रमुख स्रोत –

  • औद्योगिक वायु प्रदूषण 
  • ईंट भट्टे 
  • ऑटोमोबाइल प्रदूषण 
  • विघटित जानवर और पौधे 
  • कूड़ा जलाना 
  • घर के अंदर का वायु प्रदूषण 
  • रेडियोधर्मी तत्व
जल प्रदूषण किसे कहते हैं? (What is Water Pollution in Hindi?)  

जल प्रदूषण –

 जल प्रदूषण सबसे गंभीर पर्यावरणीय समस्याओ में से एक है। नदियों और अन्य जल निकायों में अपशिष्ट जल का निपटान करने से पहले बढ़ते उद्योगों और सीवेज जल से अपशिष्ट उत्पादों का ठीक से उपचार नहीं किया जाता है, इन्ही से जल प्रदूषण (Water Pollution) होता है।

इसके अलावा उर्वरकों और कीटनाशकों के साथ खेतो में विभिन्न प्रकार दवाइया डालने या छिड़कने से भी जल निकाय प्रदूषित होती हैं। 

जल प्रदूषण के स्रोत – 

Advertisement
  • समुद्री वाणिज्य। 
  • महासागरों और समुद्र में जाने वाले औद्योगिक अपशिष्ट। 
  • समुद्री जल (sea water) में रेडियोधर्मी पदार्थों का उतरना। 
  • नदियों द्वारा सीवेज को समुद्र में बहा दिया जाता है। 
  • अपतटीय तेल रिसाव। 
  • मनोरंजक गतिविधियों। 
  • कृषि प्रदूषकों (agriculture pollutants) का जलाशयों में निथारना।
मृदा प्रदूषण क्या है? (What is soil Pollution in Hindi?)

मृदा या भूमि प्रदूषण –

मृदा प्रदूषण या भूमि प्रदूषण ठोस अपशिष्ट के जमा होने, बायोडिग्रेडेबल सामग्री के संचय, जहरीले रासायनिक यौगिकों के साथ रसायनों के जमाव आदि के कारण खुली भूमि पर होता है। प्लास्टिक, पॉलिथीन और बोतलें जैसे अपशिष्ट पदार्थ भूमि प्रदूषण का कारण बनते हैं

और मिट्टी को बंजर बना देते हैं। इसके अलावा, जानवरों के शवों को डंप करना इस मुद्दे को जोड़ता है। मृदा प्रदूषण मनुष्य और जानवरों में हैजा, पेचिश, टाइफाइड आदि जैसे कई रोगों का कारण बनता है।

मृदा प्रदूषण के कारण –

Advertisement
  • औद्योगिक कचरा (industrial waste)
  • शहरी वाणिज्यिक और घरेलू कचरा (Urban commercial and domestic waste)
  • केमिकल उर्वरक (chemical fertilizer)
  • बायोमेडिकल वेस्ट (Biomedical Waste)
  • कीटनाशकों (Pesticides)
ध्वनि प्रदूषण क्या है? (What is Noise pollution in Hindi?)

ध्वनि प्रदूषण –

बढ़ती जनसंख्या, शहरीकरण और औद्योगीकरण के साथ, ध्वनि प्रदूषण मानव जीवन, स्वास्थ्य और दैनिक जीवन में आराम को प्रभावित करने वाले प्रदूषण का एक गंभीर रूप बनता जा रहा है। वाहनों के हॉर्न, लाउडस्पीकर, म्यूजिक सिस्टम और औद्योगिक गतिविधियां ध्वनि प्रदूषण में योगदान करती हैं। 

ध्वनिप्रदूषण के कारण –

  • कारखानों और उद्योगों की मशीनें सीटी की आवाज, कुचलने वाली आवाज और गड़गड़ाहट की आवाजें पैदा करती हैं। 
  • लाउडस्पीकर, वाहनों के हॉर्न। 
  • निर्माण स्थलों पर चट्टानों और मिट्टी को नष्ट करना, ट्यूबवेल की ड्रिलिंग, वेंटिलेशन पंखे, और भारी मिट्टी को हिलाने वाली मशीनरी।

प्रदूषण स्वास्थ्य और पर्यावरण को कैसे नुकसान पहुँचाता है

Advertisement

पर्यावरण प्रदूषण से लोगों और अन्य प्राणियों का जीवन प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से प्रभावित होता है। सदियों से, ये जीवित जीव ग्रह पर मनुष्यों के साथ सह-अस्तित्व में हैं। 

1. पर्यावरण पर प्रभाव –

स्मॉग तब बनता है जब कार्बन और धूल के कण हवा में आपस में जुड़ जाते हैं, जिससे सांस की समस्या, धुंध और धुआं होता है। ये औद्योगिक और विनिर्माण सुविधाओं में जीवाश्म ईंधन के दहन और कार्बन धुएं के वाहन दहन द्वारा बनाए जाते हैं। 

इसके अलावा, ये कारक पक्षियों की प्रतिरक्षा प्रणाली को प्रभावित करते हैं, जिससे वे वायरस और बीमारियों के वाहक बन जाते हैं। इसका असर शरीर के सिस्टम और अंगों पर भी पड़ता है। 

2. भूमि, मिट्टी और खाद्य प्रभाव –

मानव जैविक और रासायनिक कचरे का क्षरण भूमि और मिट्टी को नुकसान पहुँचाता है। यह जमीन और पानी में रसायन भी छोड़ता है। कीटनाशक, उर्वरक, मिट्टी का कटाव और फसल अवशेष भूमि और मिट्टी के प्रदूषण के मुख्य कारण हैं। 

Advertisement

3. जलपर प्रभाव –

पानी किसी भी Pollutant या प्रदूषक से आसानी से दूषित हो जाता है, चाहे वह मानव अपशिष्ट हो या फैक्ट्री रासायनिक निर्वहन, हम इस पानी का उपयोग फसल की सिंचाई और पीने के लिए भी करते हैं। वे भी संक्रमण के परिणामस्वरूप प्रदूषित हो जाते हैं। इतना ही गंदा पानी पीने से एक जानवर की मौत भी हो जाती है। 

इसके अलावा, लगभग 80% भूमि-आधारित प्रदूषक जैसे रासायनिक, औद्योगिक और कृषि अपशिष्ट जल निकायों में बह जाते हैं। 

इसके अलावा, क्योंकि ये जल बेसिन अंततः समुद्र से जुड़ते हैं, वे अप्रत्यक्ष रूप से समुद्र की जैव विविधता को दूषित करते हैं। 

Advertisement

4. खाद्य प्रतिक्रिया –

दूषित मिट्टी और पानी के कारण फसलें और कृषि उत्पाद जहरीले हो जाते हैं। ये फसलें अपने जीवन की शुरुआत से लेकर बड़े स्तर तक पहुंचने तक रासायनिक घटकों से लदी रहती हैं। इससे दूषित भोजन का असर हमारे स्वास्थ्य और अंगों पर पड़ता है। 

5. जलवायु परिवर्तन प्रभाव –

जलवायु परिवर्तन भी पर्यावरण में प्रदूषण का एक कारण है। इसका पारिस्थितिकी तंत्र के भौतिक और जैविक घटकों पर भी प्रभाव पड़ता है। 

Advertisement

ओजोन रिक्तीकरण, ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन और ग्लोबल वार्मिंग पर्यावरण प्रदूषण के सभी उदाहरण हैं। क्योंकि ये जल बेसिन अंततः समुद्र से जुड़ते हैं, वे अप्रत्यक्ष रूप से समुद्र की जैव विविधता को दूषित करते हैं। इसके अलावा, उनके परिणाम आने वाली पीढ़ियों के लिए घातक हो सकते हैं। अप्रत्याशित रूप से ठंडी और गर्म जलवायु पृथ्वी की प्राकृतिक प्रणाली को प्रभावित करती है। 

इसके अलावा, भूकंप, भुखमरी, धुंध, कार्बन कण, उथली बारिश या बर्फ, गरज, ज्वालामुखी विस्फोट, और हिमस्खलन ये सभी जलवायु बदलाव की वजह से होते हैं, जो पूरी तरह से पर्यावरण को प्रदूषित करते हैं।

पर्यावरण प्रदूषण रोकने के उपाय –

इस समस्या को कम करने के लिए कुछ निवारक उपाय करने की आवश्यकता है। 

3R का सिद्धांत –

पर्यावरण को बचाने के लिए 3 R के सिद्धांत का उपयोग करें; पुन: उपयोग (Reuse), कम करें (Reduce) और पुनः चक्रण (Recycle) करें। 

पुन: उपयोग (Reuse) और कम करें (Reduce) –

उत्पादों का बार-बार पुन: उपयोग करें। चीजों को एक बार इस्तेमाल के बाद फेंकने के बजाय, उन्हें दोबारा इस्तेमाल करने का तरीका खोजें। अपशिष्ट उत्पादों की पीढ़ी को कम करें।  

पुनः चक्रण (Recycle) –

पुनः चक्रण का मतलब किसी बने हुए वस्तु को फिर से नये वस्तु में परवर्तित कर देना, जैसे – कम प्राकृतिक संसाधनों और कम ऊर्जा का यूज़ करते हुए प्लास्टिक, कागज, कांच और इलेक्ट्रॉनिक वस्तुओं को नए उत्पादों में बनाया जा सकता है। 

वायु प्रदूषण को रोकने और नियंत्रित करने के लिए घरों और उद्योगों में बेहतर डिजाइन वाले उपकरण और धुआं रहित ईंधन का उपयोग किया जाना चाहिए। पारिस्थितिक तंत्र को संतुलित करने और ग्रीनहाउस प्रभावों को नियंत्रित करने के लिए अधिक से अधिक पेड़ लगाए जाने चाहिए। 

Advertisement
Advertisement

वाहनों के बेहतर डिजाइन और उचित रखरखाव से ध्वनि प्रदूषण को कम किया जा सकता है। ध्वनिरोधी उपकरण जैसे जनरेटर आदि द्वारा औद्योगिक शोर को कम किया जा सकता है।  

मृदा प्रदूषण को नियंत्रित करने के लिए हमें प्लास्टिक के उपयोग को रोकना होगा। सीवेज को उर्वरक के रूप में और लैंडफिल के रूप में उपयोग करने से पहले ठीक से उपचारित किया जाना चाहिए। जैविक खेती को प्रोत्साहित करें क्योंकि इस प्रक्रिया में मिट्टी की उर्वरता और पारिस्थितिक संतुलन बनाए रखने के लिए जैविक सामग्री का उपयोग और सिंथेटिक पदार्थों से बचना शामिल है। 

जल प्रदूषण को नियंत्रित करने के लिए कई उपाय अपनाए जा सकते हैं। उनमें से कुछ पानी की खपत और उपयोग हैं जिन्हें शामिल तकनीकों में बदलाव करके कम किया जा सकता है। उपचार के साथ पानी का पुन: उपयोग किया जाना चाहिए। 

अंटार्कटिका में पिघलने वाले हिमखंडों के परिणामस्वरूप दुनिया के पर्यावरण प्रदूषण के कारण समुद्र का स्तर बढ़ गया, जो ग्लोबल वार्मिंग के कारण एक गंभीर समस्या बन गया था, जो एक महत्वपूर्ण चिंता का विषय बन गया था। बढ़ते कार्बन प्रदूषण से भूकंप, चक्रवात और अन्य प्राकृतिक आपदाओं जैसी प्राकृतिक आपदाओं का खतरा पैदा होता है। 

Advertisement

रूस में हिरोशिमा-नागासाकी और चेरनोबिल आपदाओं ने मानवता को अपरिवर्तनीय रूप से नुकसान पहुंचाया है। दुनिया भर के विभिन्न देश इन आपदाओं का सबसे प्रभावी तरीके से जवाब दे रहे हैं। 

प्रदूषण के खतरों और हमारे पर्यावरण की रक्षा के महत्व के बारे में लोगों को शिक्षित करने के लिए और अधिक जन जागरूकता अभियान स्थापित किए जा रहे हैं। हरित जीवन शैली अधिक लोकप्रिय हो रही है;

उदाहरण के लिए, ऊर्जा-कुशल प्रकाश व्यवस्था, नए जलवायु-अनुकूल ऑटो, और पवन और सौर ऊर्जा का उपयोग कुछ उदाहरण हैं। 

सरकारें अधिक पेड़ लगाने, प्लास्टिक के उपयोग को कम करने, प्राकृतिक कचरे की वसूली में सुधार और कीटनाशकों के उपयोग को कम करने की आवश्यकता पर जोर देती हैं। जीवन के इस पारिस्थितिक तरीके ने मानवता को अन्य जीवों को विलुप्त होने से बचाने में मदद की है, जबकि पृथ्वी को एक हरा-भरा और सुरक्षित पारिस्थितिकी बनाया है। 

 निष्कर्ष

इन पर्यावरण प्रदूषण एजेंटों से हमारे ग्रह को बचाने के लिए प्रत्येक व्यक्ति की जिम्मेदारी है। अगर बचाव के उपाय नहीं किए गए तो हमारी आने वाली पीढ़ी को इसका बड़ा खामियाजा भुगतना पड़ेगा। सरकार भी लोगों को जागरूक करने के लिए कदम उठा रही है। प्रत्येक व्यक्ति को प्रदूषण को कम करने और नियंत्रित करने में मदद करने में शामिल होना चाहिए।

दोस्तों आशा करता हूँ कि आपको पर्यावरण प्रदूषण पर निबंध के बारे में दी गई जानकारी पसंद आयी होगी दोस्तों इस पोस्ट को अधिक से अधिक लोगो के पास शेयर कीजिये जिससे लोग पर्यावरण प्रदूषण के बारे में ज्यादा से ज्यादा जागरूक हो और हमारा पर्यावरण प्रदूषण कम हो सके

धन्यवाद

Advertisement

Leave a Comment