Paramecium in Hindi | जानिए A-Z एकदम आसान भाषा में

नमस्कार दोस्तों आज हम पैरामिसियम क्या है?(What is Paramecium in Hindi) के बारे में स्टेप बाई स्टेप जानेगे तो चलिए शुरू करते है।

पैरामिसियम का परिचय (Introduction to Paramecium in Hindi)

पैरामिसियम (Paramecium in hindi) एक प्ररूपि सीलियेट जंतु है, और इसे फाइलम प्रोटोजोआ  के सबफाइलम सिलिओफोरो में रखा गया है। सिलियेट जंतु की विशेषता उनमे उपस्थित सिलिया जो गति करने वाले अंग के रूप में होती है। सभी सिलियेट जंतु में दो प्रकार के केन्द्रक पाए जाते है, जिसे Macronucleus और Micronucleus कहते है।

अतः ये केन्द्रकीय द्विरूपता दिखाते है। विभिन्न प्रजातियों में micronuclei की संख्या एक या अधिक हो सकती है। जैसे- P. caudatum के पास एक, बड़ा और सुगठित माइक्रोन्यूक्ली होता है। P. aurelia के पास दो micronucleus होते है। जबकि P. multimicronucleatum के पास कई सारे micronuclei होते है।

वंश पैरामिसियम (Paramecium in Hindi) 10 ज्ञात प्रजातियों के साथ एक प्ररूपी सिलियेट है। P. bursaria सहजीवी शैवाल Zoochlorella के उपस्थिति के कारण हरा होता है।

what is paramecium
what is paramecium

पैरामीसियम कहाँ पाया जाता है? Where is Found Paramecium?

पैरामिसियम (Paramecium in Hindi) तालाब, पोखरा, झीलें और नदियों में पाया जाता है। यह स्वच्छ जल निकायों में क्षयकारी कार्बनिक पदार्थो के साथ अधिक संख्या में पाए जाते है।

पैरामिसियम का वर्गीकरण (Classification of Paramecium in Hindi) –

Paramecium caudatum

जरूर पढ़ें -  तना किसे कहते हैं? परिभाषा, प्रकार, कार्य, रूपांतरण, उदाहरण
PhylumProtozoa
SubclassCiliophora
Class  Ciliata
SubclassHoltrichia
OrderHymenostomatida
SuborderPeniculina
GenusParamecium
Speciescaudatum
पैरामिसियम की संरंचना (Structure of Paramecium in Hindi) –

पैरामिसियम का आकार और आकृति (Paramecium size and shape) –

पैरामिसियम (Paramecium in Hindi) एक कोशकीय सूक्ष्म जीव है। भिन्न प्रजातियों में इसका आकर अलग – अलग होता है। Paramecium caudatum का आकार 170 – 290 माइक्रोन होता है, और P. aurelia का आकार 120-250 माइक्रोन होता है। पैरामिसियम लम्बी, चप्पल के आकार का जंतु है। सामान्य रूप से इसे चप्पल जंतुक (Slipper animalcule) भी कहते है। इनका शरीर असममित होने के साथ-साथ चपटा अंडाकार या वेंट्रल और एक उत्तल मुख से दूर या पृष्ठीय सतह होता है। पैरामिसियम का अग्र छोर गोलाकार और पिछला छोर मोटा और शंकु के आकार का होता है।

पैरामिसियम की संरचना कुछ विकसित अंगो के कारण काफी जटिल होता है। नीचे निम्नलिखित मुख्य अंगो का वर्णन हो सका है।

Pellicle –

पैरामिसियम का शरीर एक पतली, मजबूत और लचीलेदार पतली झिल्ली से घिरा होता है, जिसे pellicle कहते है। यह जीव के शरीर का एक निश्चित रूप देता है। pellicle को बहुभुजी या छकोनी गड्ढा के साथ में उभरा हुआ मार्जिन में बाँटा गया है।

प्रत्येक छकोनी क्षेत्र के केंद्र से एक सिलियम बाहर निकलता है बहुभुजीय क्षेत्रों से एक समान गुहाओ की नियमित श्रेणी, कूपीय और सिलिया निकलते है। छकोनी क्षेत्र के अग्र और पश्च मार्जिन trichocysts छिद्रों का धारण करते है।

Pellicle तीन झिल्लियो का बना होता है। झिल्ली के चारो तरफ सिलिया के साथ में बाहरी झिल्ली या सतह झिल्ली होता है। बाहरी झिल्ली के नीचे एक दम पास में Alveoli पैक होता है। ये अधिकांश चपटे रूप में होते है। Alveoli के बाहरी और आंतरिक झिल्ली pellicle के आंतरिक और मध्य झिल्ली के रूप में होते है।

जरूर पढ़ें -  संक्रमण क्या है, प्रकार, कारण, लक्षण, निवारण, Infection

Paramecium Cilia –

सिलिया बालो के जैसे होता है। यह पैरामिसियम (Paramecium in hindi) के पूरे शरीर के सतह को एक समान रूप से ढके होता है। ये Alveoli के केंद्र से बाहर निकलते है। कुछ अंतिम छोर के सिलिया जो लम्बे होते है, इन्हें Caudal Tuft कहते है। इनको छोड़कर बाकि सभी समान आकार के होते है। 

Ultrastructure of cilia –

प्रत्येक सिलियम तरल मैट्रिक्स से बना होता है, और एक झिल्लीदार आवरण द्वारा चारो तरफ से घिरा होता है। pellicle के बाहरी के झिल्ली के साथ में लगातार झिल्लीदार का आवरण होता है। मैट्रिक्स के अन्दर 9 परिधीय अनुदैघर्य तंतु (Nine peripheral longitudinal fibres) और दो केन्द्रीय अनुदैघर्य तंतु (two central longitudinal fibres) होते है।

प्रत्येक तंतु दो उपतंतु से बना होता है। जिनमें से एक में एक ही दिशा में चलने वाली छोटी भुजाओं की दोहरी पंक्ति है। केन्द्रीय तंतु अकेला होता है, और एक आंतरिक झिल्लीदार कोष के अन्दर जुड़ा होता है। केंद्रीय और परिधीय तंतुओं के बीच 9 बहुत ही संवेदनशील सहायक या रेडियल तंतु होते हैं।

Oral groove –

पैरामिसियम (Paramecium in Hindi) में, वेंट्रल सतह पर एक स्पष्ट, छिछला मुख सम्बन्धी ग्रूव होता है। ओरल ग्रूव में लम्बा तिरछा और पीछे की ओर एक शंक्वाकार कीप के आकार का गड्ढा होता है, जिसे vestibule कहते है। वेस्टिबुल एक विस्तृत नलीदार मार्ग, मुख गुहा में ले जाता है। यह एक अंडाकार साइटोस्टोम के माध्यम से एक विस्तृत साइटोफरीनक्स में खुलता है। साइटोफरीनक्स अपने नजदीक छोर पर एक खाद्य रिक्तिका बनाता है।

ओरल ग्रूव में सिलिया आकार और व्यवस्था में विविधता दिखाती है। मौखिक खांचे में सिलिया आकार और व्यवस्था में भिन्नता दिखाती है। ये निम्नलिखित संरचनाएँ बनाते हैं।

जरूर पढ़ें -  प्रतिरक्षा क्या है? Immunity in Hindi, जानिए A-Z,

अंतःस्रावी झिल्ली (Endoral membrane) –

मुख गुहा में विशेष सिलिया एक अर्धचंद्राकार तरीके से अंतःस्रावी झिल्ली बनाने के लिए जोड़ती है। यह अनुप्रस्थ रूप से चलती है, और वेस्टिबुल और मुख गुहा के जंक्शन पर स्थित है।

पेनीकुली (Penniculi) –

यहाँ मुख गुहा के बाये भित्ति में दो पेनिकुली स्थित होती है। प्रत्येक में सिलिया की चार पंक्तियाँ होती हैं। पृष्ठीय पेनिकुलस लंबा है, और साइटोस्टोम में दाहिनी दीवार को पार करता है। यह साइटोफरीनक्स की दाहिनी दीवार पर समाप्त होता है। वेंट्रल पेनिकुलुस छोटा होता है, और साइटोस्टोम पर समाप्त होता है। पृष्ठीय और वेंट्रल पेनिकुली के सिलिया विपरीत दिशाओं में धड़कते हैं।

चतुर्भुज (Quadrulus) –

यह सिलिया की चार पंक्तियों से भी बनता है। यह मुख गुहा की पृष्ठीय भित्ति के साथ चलती है, साइटोस्टोम के पास दाईं ओर जाती है, और पृष्ठीय पेनिकुलेस की अंत के पास समाप्त होती है।

दोस्तों आशा करता हूँ कि यह आर्टिकल पैरामिसियम क्या है? (What is paramecium in Hindi) के बारे में दी गई जानकारी आपको पसंद आई होगी, अगर पसंद आई है तो इसे प्लीज अधिक से अधिक शेयर करें।

NEET या दूसरे बोर्ड Exams के लिए कम्पलीट नोट्स बुक –

NEET Teachers के द्वारा एकदम सरल भाषा में लिखी गई नोट्स बुक 3 in 1, यानि कि एक ही किताब में जीव विज्ञान, रसायन विज्ञान और भौतिक विज्ञान की कम्पलीट कोर्स। यदि आपको इसकी जरूरत है तो नीचे दिए गये बुक इमेज पर क्लिक कीजिये और इसके बारे में और भी जानिए।

Thank You so much

Leave a Comment

error: Content is protected !!