पेशीय ऊतक किसे कहते है? प्रकार, कार्य, उदाहरण, जानें A-Z

Hello दोस्तों, आज हम जानेगे कि पेशीय ऊतक किसे कहते है, पेशीय ऊतक कितने प्रकार का होता है, पेशीय ऊतक का कार्य क्या है, ऐसे और भी सवालो के जवाब आज हम इस लेख में जानेगे। यदि आप पेशीय ऊतक के बारे अच्छे से जानना चाहते है तो यह आर्टिकल आप ही के लिए है तो शुरू करते है।

पेशीय ऊतक किसे कहते है? What is Mascular tissue in Hindi? 

पेशीय ऊतक बहुत से लम्बे, बेलनाकार रेशों या तंतुओ से मिलकर बना है जो एक समान्तर रेखा में व्यवस्थित होते है। ये रेशे या तंतु कई सूक्ष्म तंतुओ से मिलकर बना होता है जिसे पेशीय तंतुक (Myofibril) कहते है।

यही पेशी तंतु सिकुड़ते और फैलते है जिसके कारण शरीर गति करता है।

पेशी ऊतक के कार्य (Peshiy utak ke karya)

पेशीय ऊतक mesoderm से बनता है और यह गमन और संचलन में सहायता करता है। IRIS, CILLIARY मांसपेशिया जो आँखों में पायी जाती है यह Ectoderm से उत्पन्न होती है इन्ही दोनों को छोड़कर बाकि सभी मांसपेशिया mesoderm से उत्पन्न होती है। पेशीय या पेशी या मांसपेशी ये तीनो शब्द एक ही है इन शब्दों में कंफ्यूज नही होना है आपको ठीक है।

जरूर पढ़ें -  जीवाणु क्या है? कम्पलीट नोट्स, Simple भाषा में

पेशीय ऊतक कितने प्रकार का होता है?

यह तीन प्रकार के होते है।

  1. कंकालीय पेशी ऊतक (Skeletal muscle tissue)
  2. चिकनी पेशी ऊतक (Smooth muscle tissue)
  3. ह्रदय पेशी ऊतक (Cardiac muscle tissue)
पेशीय ऊतक किसे कहते है, peshi utak, muscular tissue
कंकाली पेशी या ऐच्छिक पेशी (Voluantry muscle) या रेखित पेशी (Striated muscle) –

यह मांसपेशी हमारे कंकाल या अस्थियो से जुडी हुई होती है। इसलिए इसे कंकाली पेशीय कहते है। इसकी आकृति बेलनाकार होती है। इस मांसपेशी की कोशिका शाखित नही होती है। इनकी कोशिका में बहुकेंद्रक पाए जाते है यानि की बहुकेंद्र्कीय होती है। इन्हें ऐच्छिक पेशी इसलिए कहते है क्योंकि इसकी मांसपेशियों को हम अपने इच्छानुसार नियंत्रण कर सकते है।

उदाहरण –  Sartorius मांसपेशी, बाइसेप्स मांसपेशी, ट्राईसेप्स मांसपेशी आदि। 

चिकनी पेशी या अनैऐच्छिक पेशी (Involuantry muscle) या अरेखित पेशी (Non-striated muscle) –

यह पेशी हमारे अंतरंग अंगो में पायी जाती है। अंतरंग अंग का मतलब जो अंग अन्दर से खोखली होती है। जैसे – आहार नाल, मूत्राशय आदि। यह चिकनी भी होती है। इसे अनैच्छिक पेशी इसलिए कहा जाता है क्योंकि इस मांसपेशी को हम नियंत्रण नही कर सकते है। इसकी आकृति स्पिंडल होती है। इस पेशी की कोशिका शाखित नही होती है, और इसकी कोशिका एकल केन्द्रकीय होती है। 

Biology 11-12 PDF

ह्रदय पेशी या अनैच्छिक पेशी या रेखित पेशी –

यह मांसपेशी हमारे ह्रदय भित्ति में पायी जाती है इसलिए इसे ह्रदय पेशी कहते है। इसे भी हम अपने इच्छानुसार नियंत्रण नही कर सकते है इसलिए यह भी अनैच्छिक पेशी है। इसकी आकृति बेलनाकार होती है। इसकी कोशिका शाखित होते है और एकल केन्द्रकीय होती है।

जरूर पढ़ें -  तेल क्या है, सरसों का तेल, नारियल तेल, प्रकार, Oil in Hindi,

FAQ –

मानव शरीर में कितनी मांसपेशिया पायी जाती है?

मानव शरीर में 600 से अधिक मांसपेशिया पायी जाती है। इसकी exact संख्या नही बताई जा सकती है क्योकि अलग – अलग किताबो में अलग – अलग संख्या लिखी हुई है किसी में 639 किसी में 685 किसी में और भी संख्या लिखी हुई है।

मांसपेशी के अध्ययन के को क्या कहते है?

मांसपेशियों के अध्ययन को मायोलोजी या सार्कोलोजी कहते है।

सबसे बड़ी मांसपेशी कौन सी होती है?

सबसे बड़ी मांसपेशी Gluteus maximus होती है।

सबसे छोटी मांसपेशी कौन सी होती है?

सबसे छोटी पेशी Stapedial होती है।

सबसे लम्बी मांसपेशी कौन सी होती है?

सबसे लम्बी पेशी Sartorius होती है।

सबसे ताकतवर मांसपेशी कौन सी होती है?

सबसे ताकतवर पेशी Masseter होती है।

दोस्तों मै आशा करता हूँ कि पेशीय ऊतक (Muscular tissue) के बारे में दी गई जानकारी आपको पसंद आयी होगी, अगर पसंद आयी है तो इसे अपने दोस्तों के साथ भी शेयर कीजिये जिससे उन्हें भी इसका फायदा मिल सके और यदि इस आर्टिकल में मुझसे कही पर गलती हुई है तो प्लीज कमेंट करके जरूर बताइए।

Thanks

NEET या दूसरे बोर्ड Exams के लिए कम्पलीट नोट्स बुक –

NEET Teachers के द्वारा एकदम सरल भाषा में लिखी गई नोट्स बुक 3 in 1, यानि कि एक ही किताब में जीव विज्ञान, रसायन विज्ञान और भौतिक विज्ञान की कम्पलीट कोर्स। यदि आपको इसकी जरूरत है तो नीचे दिए गये बुक इमेज पर क्लिक कीजिये और इसके बारे में और भी जानिए।

इन्हें भी पढ़े –

DNA किसे कहते है? पूरी जानकारी

जरूर पढ़ें -  जैव अणु क्या है? परिभाषा, प्रकार, उदाहरण, विश्लेषण, जानें सबकुछ

RNA किसे कहते है? पूरी जानकारी

कॉकरोच क्या होता है पूरी जानकारी एकदम सरल भाषा में

वायरस किसे कहते है? एकदम सरल भाषा में कम्पलीट जानकारी

Leave a Comment

error: Content is protected !!